Sur ki devi Saraswati maa सुर की देवी सरस्वती मा- Saraswati Mata Bhajan

Sur ki devi Saraswati maa

Lyrics: सुर की देवी सरस्वती मा

सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,

सुर का गयाँ सीखा दे मा,
है अंधियारा इस हृद्या मेी,
सुर का डीप जला दे मा
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,

<इफरामे विड्त="550" हाइट="350" स्र्क="हतटपस://ववव.यौतूबे.कॉम/एमबेड/जे6णWईक्ष8cओफc" फ्रामेबोर्डर="0" आल्लॉवफ़ुल्लसक्रीन>

रीत ना जानू गीएट ना जानू,
प्रीत मेी जानू चरनो की,
रीत ना जानू गीएट ना जानू,
प्रीत मेी जानू चरनो की,

गयाँ नही अगयानी हू मई,
साची राह दिखा दे मा,
है अंधियारा इस हृद्या मेी,
सुर का डीप जला दे मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,

पूजा वंदना अर्चना सब कुच्च्छ
शबाद सुमन अर्पण माता,
पूजा वंदना अर्चना सब कुच्च्छ
शबाद सुमन अर्पण माता,
पूजा वंदना अर्चना सब कुच्च्छ
शबाद सुमन अर्पण माता,

प्रेम अकेला भेट तुम्हे,
कर वरद हॅस्ट स्वीकार करो,
है अंधियारा इस हृद्या मेी,
सुर का डीप जला दे मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,

सुर का गयाँ सीखा दे मा,
है अंधियारा इस हृद्या मेी,
सुर का डीप जला दे मा
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,
सुर की देवी सरस्वती मा, सुर की देवी सरस्वती मा,