Mann Ki Muradein\ Maa Durga Bhajan By Lakhbir Singh Lakkha

Mann ki muradein puri kar maa,

Lyrics:मॅन की मुरदें पूरी कर मा,

मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
दर्शन करने को मई तो अवँगी,
दर्शन करने को मई तो अवँगी,
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
हलवे का भोग मई लगौंगी,
हलवे का भोग मई लगौंगी,

तू है टटी दान देदे, मुझको अपना जानकार,
तू है टटी दान देदे, मुझको अपना जानकार,
भर दे मेरी झोली खाली दाग लगे ना तेरी शान पर
भर दे मेरी झोली खाली दाग लगे ना तेरी शान पर
सवा रूपिया और नारियल मई तेरी भेट चढ़ौँगी,
सवा रूपिया और नारियल मई तेरी भेट चढ़ौँगी,
दर्शन करने को मई तो अवँगी,
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
हलवे का भोग मई लगौंगी,

छ्होटी छ्होटी कन्ययो को भोग लगओ भक्ति भाव से,
छ्होटी छ्होटी कन्ययो को भोग लगओ भक्ति भाव से,
तेरा जाग्रता काराऔ मई तो मा बड़े चाव से,
तेरा जाग्रता काराऔ मई तो मा बड़े चाव से,
लाल ध्वजा ले कर के माता तेरे भवन पे लहरौंगी,
लाल ध्वजा ले कर के माता तेरे भवन पे लहरौंगी,
मॅन की मुरदें पूरी कर मा, मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
दर्शन करने को मई तो अवँगी, दर्शन करने को मई तो अवँगी,

महिमा तेरी बड़ी निराली पार ना कोई पाया है,
महिमा तेरी बड़ी निराली पार ना कोई पाया है,
मैने सुना है ब्रह्मा विष्णु शिव ने तेरा गन गया है,
मेरी औकात क्या है, तेरी मा बात क्या है,
मेरी औकात क्या है, तेरी मा बात क्या है,
कैसे मई तुझे भूल्ौंगी,
मॅन की मुरदें पूरी कर मा, मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
दर्शन करने को मई तो अवँगी, दर्शन करने को मई तो अवँगी,

लाल चोला लाल चुनरी लाल ही तेरे लाल है,
लाल चोला लाल चुनरी लाल ही तेरे लाल है,
तेरी जिसपे हो दया वो तो मालामाल है,
श्याम सुंदर और लक्खा लाल है तेरे,
उनको भी संग मई लौंगी,
मॅन की मुरदें पूरी कर मा, मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
दर्शन करने को मई तो अवँगी, दर्शन करने को मई तो अवँगी,

मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
मॅन की मुरदें पूरी कर मा,
दर्शन करने को मई तो अवँगी,
दर्शन करने को मई तो अवँगी,
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
तेरा दीदार होगा मेरा उद्धार होगा
हलवे का भोग मई लगौंगी,
हलवे का भोग मई लगौंगी,

Check Also

Mai Mangti Tere Darbaar Di मैं मंगती तेरे दरबार दी- Maa Durga Bhajan By Narendra Chanchalji

Mai mangti tere darbaar di, Lyrics: मैं मंगती तेरे दरबार दी अज्ज दोहाई है सच्ची …