Aise Hain Mere Ram ऐसे हैं मेरे राम- Ram Bhajan By Ravindra Jain

Aise Hain Mere Ram

Lyrics:ऐसे हैं मेरे राम

ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम
विनय भरा ह्रदय करें सदा जिसे प्रणाम
ऐसे हैं मेरे राम, ऐसे हैं मेरे राम

ह्रदय कमल, नयन कमल
सुमुख कमल, चरण कमल
कमल के कुञ्ज, तेज कुञ्ज
छवि ललित ललाम

ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम

राम सा पुत्र न राम सा भ्राता
राम सा पति नहीं न राम सा त्राता
राम सा मित्र न राम सा दाता

सबसे निभाए सबका नाता
स्वाभाव से उदार शांत,
सब गुणों के खान

ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम

सरे जग के प्राण है राम
ऋषि मुनियों का ध्यान है राम
गन्धर्वो का गान है राम

मर्यादा का भान है राम
पतितो का उत्थान है राम
धनुर्धारी धनवान है राम

निश्चित ही विद्वान है राम
सबको लगे भगवन है राम

जनम मरण से मुक्ति हो
जपो जो राम नाम
ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम

विनय भरा ह्रदय
करें सदा जिसे प्रणाम
ऐसे हैं मेरे राम
ऐसे हैं मेरे राम

Check Also

Dukh Sukh Dono Kuchh Pal Ke दुख सुख दोनो कुच्छ पल के- Ram Bhajan By Anup Jalota

Dukh sukh dono kuchh pal ke Lyrics: दुख सुख दोनो कुच्छ पल के दुख सुख …